aadhi aabadi

  • Aug 17 2018 3:18PM

रोजगार से जुड़ेंगे हुनरमंद युवा

रोजगार से जुड़ेंगे हुनरमंद युवा

 जिला : खूंटी


आजीविका डेस्क

ग्रामीण युवक-युवतियों को प्रशिक्षित करके रोजगार से जोड़ने के उद्देश्य से खूंटी के दतिया रोड स्थित झारखंड स्टेट लाइवलीहुड प्रमोशन सोसाइटी की ओर से दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल विकास योजना के तहत क्रेडल लाइफ साइंस प्रशिक्षण केंद्र का उद्घाटन ग्रामीण विकास मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा ने किया.

प्रशिक्षण से रुकेगा पलायन
खूंटी राज्य का पिछड़ा जिला है, जिसके कारण यहां से युवक-युवतियां रोजगार के लिए पलायन करते हैं. प्रशिक्षण केंद्र खुल जाने से यहां के स्थानीय युवक-युवतियों को काम की तलाश में बाहर जाने की मजबूरी नहीं होगी. यहीं प्रशिक्षण के बाद रोजगार से जुड़ सकेंगे. इससे उन्हें करीब 10 हजार रुपये मासिक आय के रोजगार से जोड़ा जायेगा.

पारा मेडिकल का मिलेगा प्रशिक्षण
क्रेडल लाइफ साइंसेस प्रशिक्षण केंद्र में पारा मेडिकल के कोर्स कराये जायेंगे. इसके तहत खून की जांच, सूई देना, एक्सरे तकनीशियन और ओटी कार्य का प्रशिक्षण दिया जायेगा.

नि:शुल्क प्रशिक्षण
केंद्र में क्रेडल लाइफ साइंसेस प्रशिक्षण योजना के तहत 15 से 35 आयु वर्ग के युवक-युवतियों को नि:शुल्क प्रशिक्षण दिया जायेगा. कार्यक्रम के दौरान युवक-युवतियों को कौशल विकास से संबंधित लघु फिल्म भी दिखाई गयी. मौके पर ग्रामीण विकास मंत्री ने युवक-युवतियों को सम्मानित भी किया.

युवाओं को रोजगार देना सरकार की प्राथमिकता : नीलकंठ सिंह मुंडा
ग्रामीण विकास मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा ने कहा कि राज्य सरकार सभी प्रखंडों में कौशल विकास केंद्र की स्थापना करेगी. समाज के अंतिम व्यक्ति तक विकास की रोशनी पहुंचाना सरकार का लक्ष्य है. सरकार सबको साथ लेकर चलने में विश्वास करती है. पंडित दीनदयाल उपाध्याय का भी यही सपना था. पंडित दीनदयाल उपाध्याय कौशल विकास योजना पूरे देश में चल रही है, जिससे प्रशिक्षण पाकर हजारों युवक-युवतियां आत्मनिर्भर बन रहे हैं. योजना के तहत महिलाओं को प्रशिक्षण देकर रोजगार से जोड़ना सरकार की प्राथमिकता है. ग्रामीण विकास विभाग इसके लिए निरंतर प्रयास कर रहा है.

प्रशिक्षण के बाद मिलेगा रोजगार : परितोष उपाध्याय
जेएसएलपीएस के सीइओ परितोष उपाध्याय ने कहा कि सभी युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराना जेएसएलपीएस का उद्देश्य है. प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद 70 फीसदी युवक-युवतियों को निश्चित रुप से रोजगार से जोड़ा जायगा. जेएसएलपीएस ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में रहने वाले गरीब बच्चों को प्रशिक्षण देकर रोजगार उपलब्ध कराता है.