aadhi aabadi

  • May 10 2017 12:57PM

प्रधानमंत्री ने एक लाख सखी मंडल की दीदियों के बीच बांटे स्मार्ट फोन, डिजिटल व कैशलेस इंडिया में योगदान के लिए सखी मंडल को किया प्रोत्साहित

प्रधानमंत्री ने एक लाख सखी मंडल की दीदियों के बीच बांटे स्मार्ट फोन, डिजिटल व कैशलेस इंडिया में योगदान के लिए सखी मंडल को किया प्रोत्साहित

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 06 अप्रैल, 2017 को साहिबगंज के पुलिस लाइन में आयोजित समारोह में एक लाख सखी मंडल की सदस्यों के बीच स्मार्ट फोन का वितरण किया. इस कार्यक्रम में 20,000 से भी ज्यादा सखी मंडल की सदस्यों ने शिरकत कीं. देवघर, जामताड़ा और साहिबगंज जिले को मिला कर सभी सखी मंडल की सदस्य शामिल थीं. सभी सखी मंडल की दीदियों ने हरे रंग की संताली साड़ी व सिर पर जेएसएलपीएस की टोपी पहन रखी थीं. सभी के चेहरे पर प्रधानमंत्री को देखने की काफी उत्सुकता थी. प्रतीक के तौर पर पांच सखी मंडल सदस्य को स्मार्ट फोन दिया गया. स्मार्ट फोन पाने वाली सदस्यों में साहिबगंज की मीना देवी, जमशेदपुर की उर्मिला सोरेन, रांची की रीझरेन टोप्पो, खूंटी की सुनीता कच्छप व पलामू की बिंदु देवी शामिल थीं.

डिजिटल इंडिया व कैशलेस इंडिया

कैशलेस झारखंड के सपने को साकार करने के लिए कई विभागों का सहयोग लिया जा रहा है, जिसमें से एक है सखी मडलों की सदस्य. प्रधानमंत्री ने सखी मंडल को प्रोत्साहित किया और कहा कि डिजिटल इंडिया और कैशलेस इंडिया में अपना योगदान दे. प्रधानमंत्री की खुशी देखते ही बन रही थी कि कैसे सखी मंडलों ने उनके सवालों का सही जवाब दिया. उन्होंने पूछा कि मोबाइल चलाना आता है? तो झट से कहती है, हां! एेप क्या होता है और कैसे डाउनलोड करते हैं. इन सब की जानकारी उन्हें थी. उन्हें प्रधानमंत्री द्वारा लॉंच कराये गये भीम एेप के बारे में भी मालूम था. नोटबंदी के दौरान प्रधानमंत्री ने भीम एेप की घोषणा की थी. यह एेप पैसों का ट्रांजेक्शन, जैसे- पैसे भेजना या ट्रांसफर करने में सहायक होता है.

स्मार्ट फोन से राज्य बनेगा स्मार्ट सिटी : नरेंद्र मोदी 

साहिबगंज के पुलिस लाइन में आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंच पर पहुंचते ही सबसे पहले जोहार कह कर सबका अभिनंदन किया और अपनी खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि यह उनके लिए सौभाग्य की बात है कि वे भगवान बिरसा मुंडा की धरती पर आये. उन्होंने कहा कि आदिवासी, आदिम जनजाति व महिलाओं को स्मार्ट फोन मिलने से झारखंड को स्मार्ट सिटी बनने में सहायता मिलेगी. वे इस खुशी को अपने सांसद भाइयों के साथ बाटेंगे कि वे हिंदुस्तान के अति पिछड़ा इलाका संताल में मोबाइल बांटने गये थे और वहां की बहनों ने मोबाइल का क्या उपयोग होता है, उन्हें सिखाया. नोटबंदी के बाद किसी को बैंक जाने से होनेवाली परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा, क्योंकि फोन के जरिये ही बैंक का काम आसानी से कर सकते हैं. डिजिटल झारखंड बनाने कि दिशा में बीपीएल परिवारों को पॉश मशीन के माध्यम से अनाज का वितरण हो रहा है. राज्य सरकार कैशलेस झारखंड अभियान के लिए राज्य के सभी कर्मियों को प्रशिक्षण भी दे रही हैं. इस अभियान को पूरा करने के लिए हर जिले के सभी प्रखंडों को कैशलेस प्रखंड बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है. इसके अलावा ग्रामीण इलाकों तक इसकी पहुंच बढ़ाने के लिए कई प्रज्ञा केंद्र और पंचायत सचिवालयों का उपयोग किया जायेगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूछे कई सवाल

प्रधानमंत्री ने मीना देवी से पूछा कि आप इस फोन को कैसे इस्तेमाल करेंगी. दीदी ने तत्पश्चात उत्तर दिया कि वह स्मार्ट फोन को समूह में ले जाकर सबको दिखायेंगी और उन सब की फोटो खींच कर उस समूह को देंगी और अपने ग्राम संगठन को भी देंगी. इससे उन्हें एक हौसला मिलेगा, फोटो के माध्यम से अपने काम को दिखा सकेंगी. अपनी बैठकों और चर्चाओं को फोन पर रिकॉर्ड करके दुबारा देख सकेंगी और दूसरों को दिखा सकेंगी कि वे क्या काम करती हैं. जब यही प्रश्न रांची की सुनीता से पूछा गया, तो उन्होंने बताया कि अब उन्हें तपती धूप में बैंक के चक्कर नहीं काटने होते. घर पर ही भीम एेप के जरिये वह पैसों का ट्रांजेक्शन आसानी से कर लेती हैं. पैसे भेजनेवाले का अकाउंट नंबर और आइएफएससी कोड डालना पड़ता है या सिर्फ आधार नंबर से ही ट्रांजेक्शन हो जाता है. वे इस एप के बारे में दूसरे लोगों को जानकारी देती है.

डिजिटल झारखंड का सपना होगा 

साकार : उर्मिला सोरेन

प्रधानमंत्री के हाथों स्मार्ट फोन पाकर जमशेदपुर से आयी सखी मंडल सदस्य उर्मिला सोरेन काफी उत्साहित दिखीं. उर्मिला ने कहा कि आज डिजिटल झारखंड का सपना साकार करने के पहले चरण तक वह पहुंच पायीं. न सिर्फ स्मार्ट फोन से बल्कि हर उस तकनीक को सीख कर हम आगे बढ़ाना चाहते हैं. हमारा सौभाग्य है कि प्रधानमंत्री से वह आज मिल सकीं.

उद्यमी बन रहीं सखी मंडल की सदस्य

गंगा पुल के उद्घाटन से झारखंड दूसरे कई और शहरों को जोड़ेगा, जिससे उच्च स्तरीय ट्रांसपोर्ट सिस्टम से उद्योग और व्यवसाय को बढ़ावा मिलेगा. पुल के माध्यम से लोगों को रोजगार मिलेगा. संताल इलाके में पशु सखियों की मदद से डेरी उद्योग का विकास होगा. लाखों परिवारों को पशुओं का दूध, उसकी प्रोसेसिंग, मार्केटिंग, ब्रांडिंग और पशु के दूध की सही कीमत मिलेगी, जिससे पशु सखियों को भी लाभ मिलेगा. मधुमक्खी पालन को लेकर शहद के माध्यम से ग्लोबल मार्केटिंग पर जोर दिया जा सकता है. बाजारों में दूध और शहद की मांग बहुत होती है, जिनसे सखी मंडल अच्छा व्यवसाय कर सकती हैं. साथ ही खेती-बारी का काम भी जारी रखें. 12 महीने दूध, शहद व खेती को कमाई का जरिया बना सकते हैं.  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संताल परगना की जमीन पर पहली बार आगमन होने की वजह से लोगों में हर्षोल्लास का माहौल था. लोगों ने प्रधानमंत्री का स्वागत बड़े ही धूमधाम से किया. प्रधानमंत्री की महिलाओं के प्रति विकासशील सोच और महिलाओं के लिए अनेक योजनाएं सुनकर सखी मंडल की सदस्य काफी खुश थीं. सखी मंडल की महिला सदस्यों ने भी प्रधानमंत्री से वादा किया कि देश को कैशलेस बनाने में वे अपना संपूर्ण योगदान देंगी. इस मौके पर राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू, मुख्यमंत्री रघुवर दास, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, समाज कल्याण मंत्री लुइस मरांडी, सांसद विजय हांसदा, विधायक अनंत ओझा, मुख्य सचिव राजबाला वर्मा समेत काफी संख्या में अधिकारी और ग्रामीण मौजूद थे.