aadhi aabadi

  • Jul 4 2017 1:35PM

महिला ग्राम संगठन कार्यालय का उदघाटन सतह पर दिख रहा सार्थक बदलाव

महिला ग्राम संगठन कार्यालय का उदघाटन सतह पर दिख रहा सार्थक बदलाव

झारखंड स्टेट लाइवलीहुड प्रमोशन सोसाइटी के तहत संचालित आजीविका महिला ग्राम संगठन ने महिलाएं खासकर ग्रामीण महिलाओं के जीवन में काफी सार्थक और सकारात्मक बदलाव किया है. रांची के आसपास के ग्रामीण इलाकों में ये बदलाव हर घर और छोटे-छोटे समारोह में देखने को मिलता है, जब महिलाएं मुखर होकर सामने आती है और अपनी बात समाज के सामने रखती है. आमतौर पर झारखंड की महिलाओं में यह देखने को नहीं मिलता था, पर जेएसएलपीएस ने यह कर दिखाया है और ग्रामीण महिलाएं अब आगे बढ़ने का सपना भी बखूबी देख रही है. घर की दहलीज लांघ कर पति के साथ कंधे-से-कंधा मिला कर परिवार के लिए कमा रही है और अच्छी जिंदगी के सपने देख रही है, क्योंकि उनके अंदर आत्मविश्वास आ गया है.

सरिता ने घर की दहलीज लांघ कर समाज में बनायी अलग पहचान 

आजीविका से जुड़ी सरिता देवी की जिंदगी आज काफी बदल चुकी है. सरिता देवी बालू गांव में पशु सखी है और आसपास के गांवों में जाकर पशुओं का इलाज करती है. सरिता की जिंदगी में बदलाव की शुरुआत तब हुई, जब सरिता पहली बार शिव शक्ति महिला समूह से जुड़ी और उसके बाद से सरिता ने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा. साल 2016 में आजीविका मिशन के तहत संचालित बालू महिला आजीविका ग्राम संगठन के द्वारा सरिता को पशु के इलाज के लिए प्रशिक्षण दी गयी. इसके बाद निरंतर मेहनत से सरिता देवी ने इलाके में अपनी एक अलग पहचान बनायी है. सरिता देवी बताती है कि अगर रात में कोई पशुओं की बीमारी की बात कह कर आता, तो वह रात में ही जाकर इलाज कर देती है. लेकिन, यह राह आसान नहीं थी. सरिता के जीवन में आज काफी बदलाव आया है. घर परिवार में खुशहाली आयी है. सबसे बड़़ी बात यह है कि सरिता बेझिझक और बेबाक आज भी अपनी बातें रखती है, जो वाकई में एक बड़ा बदलाव दिख रहा है.

लक्ष्मी ग्रामीण क्षेत्रों में दे रही बैंकिग की सुविधा

बैंकिग का कार्य करना एक जिम्मेदारी भरा काम होता है. बालू गांव की लक्ष्मी देवी आज ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकिग की सुविधाएं घर-घर तक पहुंचाने में जुटी है और इसके माध्यम से अच्छे पैसे भी कमा रही है. लक्ष्मी देवी साल 2016 से इस कार्य को कर रही है. आजीविका मिशन के तहत कार्यरत महिला आजीविका संगठन से जुड़कर इनके जीवन में सार्थक बदलाव आया है. ग्रामीण बैंक के लिए लक्ष्मी फिलहाल काम कर रही है, लेकिन काम की शुरुआत करने से पहले वो एक साधारण गृहणी थी. उन्होंने यह कभी नहीं सोचा था कि वो इतना अच्छा काम कर सकती है और परिवार के लिए चार पैसे कमा भी सकती है. बालू महिला आजीविका ग्राम संगठन समूह से जुड़ने के बाद लक्ष्मी निरंतर आगे बढ़ती जा रही है. लक्ष्मी देवी के पास अक्सर लोग जाते हैं और खाता खुलवाने से लेकर बैंकों से संबंधित कार्यों के बारे में जानकारी लेते हैं. साथ ही पैसों का लेन-देन भी बेझिझक करते हैं. लक्ष्मी देवी के पास पीओएस मशीन भी है, जिसके जरिये वो एटीएम के माध्यम से पैसे भी देती है. इसी काम के बदौलत आज बालू और उसके आसपास के गांवों में लक्ष्मी देवी की अपनी खुद की पहचान है.

ग्राम संगठन कार्यालय का उदघाटन

आजीविका महिला संगठन के विस्तार और गांव की हर एक महिला को इससे जोड़ने के लिए राजधानी रांची जिले के कांके प्रखंड स्थित ग्राम बालू और उलातू में ग्राम संगठन कार्यालय का उदघाटन हुआ. कार्यक्रम में कांके विधानसभा क्षेत्र के विधायक डॉ जीतू चरण राम, कांके प्रखंड के बीडीओ, जिला परिषद सदस्य अनिल टाइगर, बीजेपी ग्रामीण जिलाध्यक्ष रणधीर चौधरी, प्रखंड कार्यक्रम समन्वयक लवली सिंह समेत पंचायत क्षेत्र के मुखिया और गणमान्य लोग मौजूद थे. इस दौरान उपस्थित लोगों ने महिला समूहों के कार्यों की तारीफ करते हुए महिलाओं को आगे बढ़ने केे लिए प्रोत्साहित किया है.