aadhi aabadi

  • Aug 21 2017 2:17PM

समूह ने बनाया आत्मनिर्भर

समूह ने बनाया आत्मनिर्भर
शबनम खातून
प्रखंड : बरवाडीह
जिला : लातेहार
लातेहार जिला अंतर्गत केचुकी पंचायत के सरइडीह गांव की हुसना बीबी आज खुशी-खुशी अपने परिवार के साथ जीवन-यापन कर रही है. हालांकि हुसना का एक वक्त ऐसा भी था, जब उनका परिवार काफी तंगहाली में गुजर-बसर कर रही थी. 
 
गरीबी के चलते पांच बच्चों के परिवार को पालना काफी मुश्किल साबित हो रहा था. इसी दौरान उनके पति दिमागी रूप से बीमार हो गये. रिश्तेदारों से पैसे लेकर पति का इलाज कराया. पैसे की कमी के चलते हुसना बीबी का बड़ा बेटा काम करने के लिए बाहर चला गया, जिससे थोड़ी राहत तो मिली, लेकिन गरीबी से छुटकारा नहीं मिल पाया. साल 2014 में हुसना बीबी आरती आजीविका स्वयं सहायता समूह की सदस्य बनीं और समूह से 4000 रुपये का छोटा ऋण लेकर श्रृंगार का सामान खरीदा और उसे आस-पास जाकर बेचने लगी. इस कार्य से हुसना बीबी का आत्मविश्वास बढ़ा और फिर पूरे पैसे चुका कर उन्होंने समूह से बीस हजार रुपये का लोन लिया. इस राशि से हुसना ने गांव में एक किराना दुकान खोली, जो चल निकला और जल्द ही उन्होंने पूरा लोन चुकता भी कर दिया.
 
इसके बाद पचास हजार रुपये का ऋण लेकर एक शीशे की दुकान खोली. इस दुकान में दो कारीगरों को हुसना ने रोजगार दिया. यह दुकान भी अच्छी तरह से चल निकली. इससे हुसना के परिवार की आर्थिक स्थिति में काफी सुधार हुआ. आज महिला समूह से जुड़ने के बाद हुसना बीबी आत्मनिर्भर हो चुकी हैं. साथ ही दो अन्य लोगों को रोजगार भी दे रही है.