aapne baat

  • Dec 31 2018 1:43PM

नया साल, नया संकल्प

नया साल, नया संकल्प

अनुज कुमार सिन्हा

नया साल आता है, एक साल में बीत जाता है. छाेड़ जाता है कुछ यादें. कुछ खट्टी, कुछ मीठी. काेई चाह कर भी समय काे राेक नहीं सकता. यह किसी के वश में नहीं है. ताे, वही काम करें जाे आपके वश में है. इसमें काेई दाे राय नहीं कि जीवन में सुख आैर दुख दाेनाें आते रहते हैं. दिन के बाद रात आैर रात के बाद दिन आता ही है. इसी बात काे याद रखना चाहिए. मैं यह बात इसलिए कह रहा हूं कि आपके जीवन में भी कष्ट के पल आते हाेंगे, खुशी के पल भी आते हाेंगे. इसलिए दुख की बेला में निराश नहीं हाें.

कभी आपकी फसल नष्ट हाे जाये, कभी बारिश न हाे, कभी ऋण चुका नहीं पा रहे हाें, कभी परीक्षा में असफलता मिली हाे या कभी पारिवारिक परेशानी आ गयी हाे, उसके बावजूद यह साेच कर आप काेई अप्रत्याशित कदम मत उठा लें कि अब ताे सब कुछ खत्म हाे गया. साेचिए, एक असफलता के बाद सफलता आपका इंतजार कर सकती है. नया साल भी इससे अछूुता नहीं रहेगा. सबसे ज्यादा तकलीफ की बात तब हाेती है जब काेई छात्र परीक्षा में फेल हाेने या कम अंक लाने पर हताेत्साहित हाेकर जान देता है, कर्ज में डूबा काेई किसान परेशान हाे कर आत्महत्या कर लेता है. याद रखिए, एक न एक दिन आपकी परेशानी दूर हाेगी.

यह भी पढ़ें : सौर ऊर्जा बेहतर विकल्प

आपकी समस्या का निदान हाेगा, आपकी फसल बेहतर हाेगी, उसका उचित मूल्य मिलेगा, भले ही कुछ समय लगे. नये साल में पहला संकल्प ताे यही लें या अपने बच्चाें काे दिलायें कि अपने अंदर की ताकत काे पहचानना है. उसका सदुपयाेग करना है. ईश्वर ने इस बेहतरीन दुनिया में भेजा है ताे इसका आनंद लें आैर अपना कर्म करें. ऐसी बात नहीं कि आपमें कमियां नहीं हाेंगी. नये साल में तय करें कि आप उन कमियाें पर कैसे काबू पायेंगे. अपनी कमियाें काे दूर कर ही आप सफल हाे सकते हैं.

याद रखिए, दुनिया का काेई भी काम छाेटा या बड़ा नहीं हाेता है. काम ताे सिर्फ काम हाेता है. इसलिए काम से भागे नहीं. नया साल सिर्फ माैज-मस्ती के लिए नहीं है. नया साल आपकाे अपना जीवन नये सिरे से शुरू करने का एक अवसर है. आप नये साल के लिए अपना लक्ष्य तय करें आैर उसे पूरा करने के लिए रास्ता बनायें. आप छात्र हैं, ताे तय करें कि आपकाे क्या बनना है, कैसे बनना है. गंभीरता से पढ़ाई करना आपका धर्म है.

यह भी पढ़ें: रिम्स को बेहतर बनायें 

ध्यान रखिए कि आपके माता-पिता आपके भविष्य काे बनाने के लिए कितना परिश्रम करते हैं. आप नशा से दूर रहिए, आप तेज वाहन चला कर जान जाेखिम में मत डालिए. आप अपने बुजुर्गाें का सम्मान कीजिए, अपने माता-पिता के साथ गुरु का सम्मान करें. यही आपका संकल्प हाेना चाहिए. अगर आप किसान हैं, ताे लक्ष्य बनायें कि कैसे बढ़िया खेती करनी है, कैसे उपज बढ़ानी है, कैसे अपनी आय दाेगुनी करनी है. अच्छी आमदनी हाेगी, ताे आप अपने परिवार का भरण-पाेषण बेहतर तरीके से कर सकते हैं. आप महिला हैं ताे तय करें कि कैसे आप किसी एसएचजी से जुड़ कर आप आत्मनिर्भर हाे सकती हैं. लक्ष्य तय करें आैर उसे पाने के लिए जी-जान से जुट जायें.